डंडे वाले सुन लेना एक सवाल दीवाने का,

डंडे वाले सुन लेना एक सवाल दीवाने का,
जिसका घर छोटा सा हो, क्या उसके घर नहीं आते,
या फिर मुझसे प्रेम नहीं, क्यों मेरे घर नहीं आते ।
अब इतना बतलादो दादा कैसे तुझे मनाने का,
दादा तेरा क्या फ़र्ज़ नहीं भक्तो के घर आने का ॥

ऐसा रास्ता ढूंढ़ लिया रोज मिले तो चैन आए,
इक दिन मिलने तुम आयो, इक दिन मिलने हम आए ।
अब तो पक्का सोच लिया घर मोहनखेड़ा बनाने का,
दादा तेरा क्या फ़र्ज़ नहीं भक्तो के घर आने का ॥

जिसका जिसका घर देखा वो क्या तेरे लगते हैं,
रिश्तेदारी में दादा वो क्या हमसे बढ़के हैं ।
क्या मेरा हक्क नहीं बनता है तुझको घर पे बुलाने का,
दादा तेरा क्या फ़र्ज़ नहीं भक्तो के घर आने का ॥